हेडलाइंस
J&K: सामने आया कुलगाम में बैंक कर्मचारी की हत्या का CCTV, नकाबपोश ने बेखौफ चलाई गोली सोनिया गांधी कोरोना पॉजिटिव, कई कांग्रेस नेता भी संक्रमित...पिछले दिनों बैठकों में हुईं थीं शामिल बीजेपी में शामिल हुए हार्दिक पटेल, भगवा टोपी पहने आए नजर गैरी कर्स्टन ने की ऋद्धिमान साहा की तारीफ, कहा- वह हमारे लिए अहम खिलाड़ी Cryptocurrency से अर्थव्यवस्था के एक हिस्से के ‘डॉलरीकरण' का खतरा: आरबीआई अधिकारी पाकिस्तान में आसमान बरसा रहा आग‍ ! पारा 51 डिग्री के पार, लोगों को बेवजह बाहर न निकलने की सलाह पाकिस्तान के वजीरिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन बच्चों समेत 6 लोगों की मौत पत्रकार गणेश तिवारी आत्महत्या मामला में बड़ी कार्रवाई, पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ दर्ज की FIR राघौगढ़ किले से नहीं भाजपा नेताओं से जुड़े है गुना हत्याकांड के तार, फोटो सहित प्रूफ दिए हैं- जयवर्धन सिंह दिल्ली में भीषण गर्मी और लू का कहर, कई इलाकों में पारा 49 डिग्री सेल्सियस के पार

सुरक्षा पर सस्ती राजनीति: चीन की चुनौती का सामना करने के लिए देश की एकजुटता जरूरी

चीन के कपट भरे आचरण को देखते हुए यह आवश्यक ही नहीं अनिवार्य है कि देश का राजनीतिक वर्ग एक स्वर में उसे चेताए।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के लोकसभा में बयान से केवल यही स्पष्ट नहीं हुआ कि चीनी सेना लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर यथास्थिति बदलने पर आमादा है, बल्कि यह भी साफ हुआ कि उसकी नीयत ठीक नहीं। उसकी खराब नीयत का पता इससे भी चलता है कि सैन्य स्तर पर तमाम बातचीत के बाद भी वह पीछे हटने को तैयार नहीं। चूंकि रक्षा मंत्री का बयान यह रेखांकित कर रहा है कि चीनी सेना नियंत्रण रेखा पर यथास्थिति बनाए रखने संबंधी समझौतों का पालन करने के लिए तैयार नहीं, इसलिए भारत को भी इस विचार करना होगा कि चीन के साथ हुए विभिन्न समझौतों के प्रति किस सीमा तक प्रतिबद्धता जताई जानी चाहिए? यह ठीक नहीं कि चीन तो हर तरह के समझौतों को धता बताए और भारत खुद को उनसे बांधे रखे। दुष्ट के साथ दुष्टता का ही व्यवहार नीतिसम्मत है।

चीन के कपट भरे आचरण को देखते हुए यह आवश्यक ही नहीं, अनिवार्य है कि देश का राजनीतिक वर्ग एक स्वर में उसे चेताए। यह दुर्भाग्यपूर्ण ही नहीं, शर्मनाक भी है कि जब राजनाथ सिंह ने लद्दाख सीमा पर स्थिति को चुनौतीपूर्ण बताते हुए यह अपील की कि सभी सांसदों को एकजुट होकर सेना का मनोबल बढ़ाना चाहिए, तब कांग्रेस ने सदन का बहिष्कार करना जरूरी समझा। आखिर इस तरह के बहिष्कार से कांग्रेस देश और दुनिया को क्या संदेश देना चाहती है?

चीन के अतिक्रमणकारी रवैये पर एक शब्द भी बोलने को तैयार नहीं राहुल गांधी का यह कहना बचकानी बयानबाजी के अलावा और कुछ नहीं कि देश तो सेना के साथ खड़ा है, लेकिन आखिर प्रधानमंत्री चीन के खिलाफ कब खड़े होंगे? क्या वह यह कहना चाहते हैं कि सेना प्रधानमंत्री के समर्थन के बगैर ही मोर्चे पर डटी है? क्या राष्ट्रीय सुरक्षा के गंभीर विषय पर किसी विपक्षी नेता को ऐसी ही बेतुकी बात करनी चाहिए? वास्तविक नियंत्रण रेखा की स्थिति को लेकर सवाल करने के अधिकार का तात्पर्य यह तो नहीं हो सकता कि प्रधानमंत्री को कमजोर और चीन से डरने वाला बताया जाए। राहुल गांधी तीन-चार माह से ठीक यही कर रहे हैं। उन्हें न सही, कम से कम उनके सहयोगियों को तो इतनी राजनीतिक समझ होनी ही चाहिए कि उनके बेतुके बयान जाने-अनजाने यदि किसी का हित साध रहे हैं तो चीन का।

आखिर राजनीति का इससे निकृष्ट रूप और क्या हो सकता है कि जब दुनिया को देश की एकजुटता का संदेश देने की आवश्यकता है, तब कांग्रेस न केवल अलग राग अलाप रही है, बल्कि प्रधानमंत्री पर ऐसे आक्षेप करने में लगी हुई है कि वह चीन की चुनौती का सामना करने को तैयार नहीं। यह सस्ती राजनीति है।

J&K: सामने आया कुलगाम में बैंक कर्मचारी की हत्या का CCTV, नकाबपोश ने बेखौफ चलाई गोली     |     सोनिया गांधी कोरोना पॉजिटिव, कई कांग्रेस नेता भी संक्रमित…पिछले दिनों बैठकों में हुईं थीं शामिल     |     बीजेपी में शामिल हुए हार्दिक पटेल, भगवा टोपी पहने आए नजर     |     गैरी कर्स्टन ने की ऋद्धिमान साहा की तारीफ, कहा- वह हमारे लिए अहम खिलाड़ी     |     Cryptocurrency से अर्थव्यवस्था के एक हिस्से के ‘डॉलरीकरण’ का खतरा: आरबीआई अधिकारी     |     पाकिस्तान में आसमान बरसा रहा आग‍ ! पारा 51 डिग्री के पार, लोगों को बेवजह बाहर न निकलने की सलाह     |     पाकिस्तान के वजीरिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन बच्चों समेत 6 लोगों की मौत     |     पत्रकार गणेश तिवारी आत्महत्या मामला में बड़ी कार्रवाई, पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ दर्ज की FIR     |     राघौगढ़ किले से नहीं भाजपा नेताओं से जुड़े है गुना हत्याकांड के तार, फोटो सहित प्रूफ दिए हैं- जयवर्धन सिंह     |     दिल्ली में भीषण गर्मी और लू का कहर, कई इलाकों में पारा 49 डिग्री सेल्सियस के पार     |    

SMTV India
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9907788088