ब्रेकिंग
नर्मदापुरम में मां नर्मदा जयंती महोत्सव का छाया उल्लास सीएम शिवराज ने जलमंच से की पूजा-अर्चना मुरैना के पहाड़गढ़ जंगलों में सुखोई और मिराज क्रेश पायलेट उतरे पैराशूट से पीएम मोदी आज जाएंगे भीलवाड़ा गुर्जर समाज के लोक देवता जन्मोत्सव कार्यक्रम में होंगे शामिल सीयू में ध्वजारोहण के साथ शुरू होगी स्वाभिमान थाली 1934 से घमापुर चौक में फैल रही दही बूंदी जलेबी की खुश्बू गफलत में निगम अधिकारी संपत्तिकर नामांकन का ठहराव चेक कराया रतलाम के रावटी स्टेशन के पास लोडिंग वाहन पलटा 21 घायल मध्य प्रदेश के राज्यपाल भोपाल में और सीएम शिवराज जबलपुर में करेंगे ध्वजारोहण मध्य प्रदेश में मंदिरों के 500 मीटर के दायरे से हटेंगी शराब दुकानें राहुल-अथिया को शादी में मिले करोड़ों के गिफ्ट सलमान और कोहली ने भी दिए शानदार तोहफे

पाकिस्तान के लिए आतंकी हमलों के लिहाज से सबसे खराब रहा 2022 साल, TTP बना सबसे बड़ा खतरा

पाकिस्तान के लिए आतंकी हमलों के लिहाज से 2022 साल सबसे खराब रहा । पाकिस्तान में वर्ष 2022 में सुरक्षा कर्मियों पर सबसे ज्यादा हमले...

42

पाकिस्तान के लिए आतंकी हमलों के लिहाज से 2022 साल सबसे खराब रहा । पाकिस्तान में वर्ष 2022 में सुरक्षा कर्मियों पर सबसे ज्यादा हमले हुए जिसके चलते 282 ने अपनी जान भी गंवाई  जबकि बीते साल पाक में कुल 376 आतंकी हमले दर्ज किए गए।  एक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2022 पाकिस्तान के लिए आतंकी हमलों का साल बनकर गुजरा।

पाक में  2022 में सुरक्षा कर्मियों  पर सबसे ज्यादा हमले हुए। इस्लामाबाद स्थित एक थिंक टैंक ने कहा कि यह तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TTP) के उभरने की ओर इशारा करता है जो देश के लिए सबसे बड़ा खतरा है। सेंटर फॉर रिसर्च एंड सिक्योरिटी स्टडीज (CRSS)  की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान सुरक्षा बलों ने 2022 के दौरान हमलों में कम से कम 282 सुरक्षा कर्मियों को खो दिया। ज्यादातर हमले अफगान सीमावर्ती क्षेत्र में IED के साथ हुए जिसमें सुरक्षा चौकियों पर आत्मघाती हमले भी शामिल थे।

वर्ष 2022 टीटीपी, बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (BLA) और देश के लिए सबसे बड़े खतरनाक आतंकी संगठन दाएश-अफगानिस्तान के उभरने का साल रहा। पाक में हुए आतंकी हमलों में इनका हाथ देखा गया था और अकेले दिसंबर माह में इसके चलते 40 मौतें हुईं थीं।  पाक में बीते साल 376 आतंकी हमले दर्ज किए गए जिसमें कई हमले को उसके सुरक्षाकर्मियों को निशाना बनाकर किए गए थे।

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी), दाइश (इस्लामिक स्टेट खुरासान) और बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (बीएलए) जैसे प्रतिबंधित आतंकी संगठनों ने इनमें से 57 हमलों की जिम्मेदारी भी ली थी। पूरे खैबर पख्तूनख्वा (केपी) प्रांत में हिंसा में तेजी से इजाफा हुआ है, जिससे वहां मरने वालों की संख्या में 108 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई।

SMTV India