हेडलाइंस
J&K: सामने आया कुलगाम में बैंक कर्मचारी की हत्या का CCTV, नकाबपोश ने बेखौफ चलाई गोली सोनिया गांधी कोरोना पॉजिटिव, कई कांग्रेस नेता भी संक्रमित...पिछले दिनों बैठकों में हुईं थीं शामिल बीजेपी में शामिल हुए हार्दिक पटेल, भगवा टोपी पहने आए नजर गैरी कर्स्टन ने की ऋद्धिमान साहा की तारीफ, कहा- वह हमारे लिए अहम खिलाड़ी Cryptocurrency से अर्थव्यवस्था के एक हिस्से के ‘डॉलरीकरण' का खतरा: आरबीआई अधिकारी पाकिस्तान में आसमान बरसा रहा आग‍ ! पारा 51 डिग्री के पार, लोगों को बेवजह बाहर न निकलने की सलाह पाकिस्तान के वजीरिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन बच्चों समेत 6 लोगों की मौत पत्रकार गणेश तिवारी आत्महत्या मामला में बड़ी कार्रवाई, पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ दर्ज की FIR राघौगढ़ किले से नहीं भाजपा नेताओं से जुड़े है गुना हत्याकांड के तार, फोटो सहित प्रूफ दिए हैं- जयवर्धन सिंह दिल्ली में भीषण गर्मी और लू का कहर, कई इलाकों में पारा 49 डिग्री सेल्सियस के पार

आपके मोबाइल में मौजूद है फर्जी ऐप, तो ऐसे करें असली-नकली की पहचान

नई दिल्ली। गूगल प्ले-स्टोर पर इस समय काफी संख्या में मोबाइल ऐप मौजूद हैं। यह ऐप यूजर्स के बहुत काम आते हैं। लेकिन इनमें कई फर्जी ऐप भी मौजूद हैं, जो यूजर्स की निजी जानकारी चोरी करने से लेकर अकाउंट तक खाली करने का काम करते हैं। ऐसे में यह जानना बहुत जरूरी है कि फर्जी मोबाइल ऐप की पहचान कैसे की जाए। तो आज हम आपको यहां कुछ महत्वपूर्ण टिप्स देंगे, जिनके जरिए आप फर्जी ऐप की पहचान कर सकेंगे।

ऐप इंस्टॉल करने से पहले आइकन और स्पेलिंग जरूर करें चेक

जब भी आप गूगल प्ले स्टोर पर किसी ऐप को सर्च करते हैं, तो आपको सर्च लिस्ट में कई सारे ऐप मिलते हैं। इनमें काफी संख्या में फर्जी ऐप होतें हैं। इनकी पहचान करने के लिए आइकन के साथ स्पेलिंग पर जरूर ध्यान दें। अगर आपको स्पेलिंग या आइकन में कुछ गड़बड़ लगता है, तो उसे डाउनलोड न करें। 

डेवेलपर पर दें ध्यान

किसी भी मोबाइल ऐप को इंस्टॉल करने से पहले उसके एडिटर च्वाइस और टॉप डवलपर्स पर जरूर ध्यान दें। इसके अलावा आप ऐप की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर भी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इससे आप फर्जी ऐप को डाउनलोड करने से बच जाएंगे।

किसी भी ऐप को इंस्टॉल करने से पहले आपको यह देखना चाहिए कि उस ऐप को कितनी बार डाउनलोड किया गया है। वास्तविक ऐप्स का दुनियाभर में करोड़ों बार डाउनलोड किया गया है। ऐसे में अगर कोई फर्जी ऐप है, तो उसके इंस्टॉल काउंट भी कम होंगे।

मोबाइल ऐप रिव्यू जरूर पढ़ें

फर्जी ऐप की पहचान करने के लिए आपको उसके यूजर रिव्यू को जरूर पढ़ना चाहिए। वैसे तो कई रिव्यू फर्जी भी होते हैं। लेकिन कुछ रिव्यू आपको ऐसे भी मिल जाएंगे, जो ऐप के बारे में सही जानकारी देते हैं। अगर किसी ऐप पर नेगेटिव कमेंट हो, तो उसे डाउनलोड करने से बचें।

J&K: सामने आया कुलगाम में बैंक कर्मचारी की हत्या का CCTV, नकाबपोश ने बेखौफ चलाई गोली     |     सोनिया गांधी कोरोना पॉजिटिव, कई कांग्रेस नेता भी संक्रमित…पिछले दिनों बैठकों में हुईं थीं शामिल     |     बीजेपी में शामिल हुए हार्दिक पटेल, भगवा टोपी पहने आए नजर     |     गैरी कर्स्टन ने की ऋद्धिमान साहा की तारीफ, कहा- वह हमारे लिए अहम खिलाड़ी     |     Cryptocurrency से अर्थव्यवस्था के एक हिस्से के ‘डॉलरीकरण’ का खतरा: आरबीआई अधिकारी     |     पाकिस्तान में आसमान बरसा रहा आग‍ ! पारा 51 डिग्री के पार, लोगों को बेवजह बाहर न निकलने की सलाह     |     पाकिस्तान के वजीरिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन बच्चों समेत 6 लोगों की मौत     |     पत्रकार गणेश तिवारी आत्महत्या मामला में बड़ी कार्रवाई, पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ दर्ज की FIR     |     राघौगढ़ किले से नहीं भाजपा नेताओं से जुड़े है गुना हत्याकांड के तार, फोटो सहित प्रूफ दिए हैं- जयवर्धन सिंह     |     दिल्ली में भीषण गर्मी और लू का कहर, कई इलाकों में पारा 49 डिग्री सेल्सियस के पार     |    

SMTV India
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9907788088