SMTV India
Local & National Breaking News

रिश्वत लेने के मामले में बंद पूर्व एडीएम शेख के पीठ में हुआ दर्द

11

शिवपुरी। 10 हजार रुपये की रिश्वत लेने के मामले में पांच साल की सजा पा चुके शिवपुरी के पूर्व एडीएम जेडयू शेख एक दिन भी जेल में नहीं रहे हैं। सजा सुनते ही उन्होंने जेल जाने के पहले सीने में दर्द की शिकायत बताई। इसके बाद उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया और वे वहां पर भर्ती हो गए। उनके अस्पताल में भर्ती होने के साथ ही वहां पर विशेष सेवाएं मिलने की चर्चाएं तेज हो गईं। लोगों का कहना है कि रसूख के बल पर वे जेल जाने से बचे हुए हैं। हाईकोर्ट की शरण लेकर जमानत मिलने तक वे अस्पताल में रहकर जेल जाने से बचना चाहते हैं। पहले वे सीने में दर्द की शिकायत करते रहे, जब सीने में दर्द का इलाज हुआ तो उन्हें बीपी और शुगर हो गई। इसका भी इलाज हो गया तो उनकी पीठ में दर्द हो गया। अब पीठ का दर्द गया नहीं था कि हाथ पैरों में झुनझुनी होने लगी है।

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश राज्य प्रशासनिक सेवा के 1988 बैच के वरिष्ठ अधिकारी एवं शिवपुरी के पूर्व एडीएम जेडयू शेख को रिश्वत के मामले में विशेष न्यायालय भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के न्यायाधीश राधाकिशन मालवीय ने भ्रष्टाचार के मामले में पांच साल के कारावास की सजा सुनाई थी। पांच मार्च को सजा सुनने के बाद वे अस्पताल में भर्ती हो गए। उन्हें सीने में दर्द की शिकायत थी। इसके बाद जब उनका ईसीजी किया गया तो वह नॉर्मल निकला। इसके बाद उन्होंने ब्लड प्रेशर और शुगर की समस्या बताई। चिकित्सक ने जब चेक किया तो उनका ब्लड प्रैशर कुछ बढ़ा हुआ था जो जल्द ही ठीक भी हो गया। फिर उन्होंने ऑर्थोपेडिक से संबंधित परेशानियां बताईं। उन्होंने पीठ दर्द और हाथ-पैरों में झुनझुनी आने की शिकायत की। इसके बाद ऑर्थोपेडिक चिकित्सक ने एक्सरे और अन्य जांचें लिखीं। इनमें भी कोई गंभीर बीमारी सामने नहीं आई है। मामूली बीमारियां होने के बाद भी उन्हें किसी अन्य कैदी की तरह कैदी वार्ड में नहीं, बल्कि स्पेशल वार्ड में रखा गया है। इस मामले में सभी अधिकारी एक-दूसरे पर पल्ला झाड़ रहे हैं। जेलर कहते हैं कि अस्पताल से मेडिकल बोर्ड फिट घोषित करेगा, तब जेल आएंगे। सीएमएचओ को इसके बारे में जानकारी नहीं है। वहीं प्रशासनिक अफसर भी इस मामले से जानते हुए भी अंजान हैं।

जेडयू शेख ने सीने में दर्द की शिकायत की थी। इसके बाद ईसीजी किया तो वह सामान्य था। बीपी और शुगर की शिकायत भी उन्हें थी जो एक बार बढ़ी हुई आने के बाद नॉर्मल आई। इसके बाद उन्होंने ऑर्थोपेडिक संबंधी शिकायत की। इसके लिए उन्हें ऑर्थोपेडिक चिकित्सक से कंसल्ट करा दिया था। उसमें ठीक होने में उन्हें कितना समय लगेगा यह मैं नहीं कह सकता।

– डॉ. आरआर वर्मा, चिकित्सक, मेडिसिन, डीएच।

SMTV India