SMTV India
Local & National Breaking News

बिजली बकाया राशि पर बिजली विभाग सख्त, बिजली बकायादारों के बैंक खातों को किया सीज

17

जबलपुर। बिजली विभाग बकाया राशि वसूलने के लिए कुर्की के साथ बैंक खातों को सींज करने में जुटा है। शहरी की बजाए बैंक खाते ग्रामीणों को खोजकर उन्हें सीज​ करने चिट्टी लिखी जा रही है। इस प्रक्रिया में बिजली कर्मी बकाया भुगतान तक बैंक से लेनेदेन पर रोक लगाने की बात कह रहे हैं हालांकि कई बैंक उनकी इस बात को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। वहीं कुछ बैंक अमल शुरू कर दिया है।

शासन के निर्देश ​पर विभाग ने बकाया बिल की राशि उपभोक्ताओं से वसूल करने के लिए संपत्ति कुर्क करने की प्रक्रिया शुरू की हुई है। इसके तहत उपभोक्ता के घर मिलने वाली किसी भी सामग्री को बिजली अमला जब्तकर अपनी राशि वसूलने का दबाव बना रहा है। शहरी क्षेत्रों में तो दुकानों और परिसर को सील किया जा रहा है लेकिन ग्रामीण इलाकों में सामग्री की जब्ती की जा रही है।

 बिजली अमले को संपत्ति जब्त करने में ज्यादा दिक्कत आ रही है जब्त सामग्री का रखरखाव करना मुश्किल हो रहा है। ग्रामीण इलाकों से ट्रैक्टर, ट्रॉली, क्रेशर, पंप, मोटरसाइकल या अन्य सामग्री लाना उसे रखना ​कठिन हो रहा है। जब्ती से पहले पंचनामा तैयार करना होगा। जिसके बाद सामग्री को सुरक्षित ठिकाने तक रखवाया जाता है। इसमें कम स्टॉफ होने के कारण कर्मचारी परेशान हो जाते हैं। एक ही गांव में दिन बीत जाता है। ऐसे में बैंक खातों को सीज करना आसान हो रहा है। इसके लिए उपभोक्ता के किस बैंक में खाते हैं इसकी जानकारी ली जा रही है।

गांव के करीब की मंडियों से किसानों का ब्यौरा लिया जा रहा है। किसानों की फसल का पैसा किसान के बैंक खाते में पहुंचता है जिसका ब्योरा मंडियों में किसान पहुंचाता है। इस ब्यौरे को बिजली कर्मी मंडियों से लेकर बैंक में कुर्की संबंधी आदेश देकर बकायादार उपभोक्ता के बिल भुगतान होने तक बैंक लेनदेन पर रोक लगाने की बात कहीं जा रही है। इधर शहर में बैंक खाता सीज नहीं हो रहा है इसकी वजह उपभोक्ताओं के खातों को लेकर कोई जानकारी बिजली कंपनी के पास नहीं है।

SMTV India