हेडलाइंस
J&K: सामने आया कुलगाम में बैंक कर्मचारी की हत्या का CCTV, नकाबपोश ने बेखौफ चलाई गोली सोनिया गांधी कोरोना पॉजिटिव, कई कांग्रेस नेता भी संक्रमित...पिछले दिनों बैठकों में हुईं थीं शामिल बीजेपी में शामिल हुए हार्दिक पटेल, भगवा टोपी पहने आए नजर गैरी कर्स्टन ने की ऋद्धिमान साहा की तारीफ, कहा- वह हमारे लिए अहम खिलाड़ी Cryptocurrency से अर्थव्यवस्था के एक हिस्से के ‘डॉलरीकरण' का खतरा: आरबीआई अधिकारी पाकिस्तान में आसमान बरसा रहा आग‍ ! पारा 51 डिग्री के पार, लोगों को बेवजह बाहर न निकलने की सलाह पाकिस्तान के वजीरिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन बच्चों समेत 6 लोगों की मौत पत्रकार गणेश तिवारी आत्महत्या मामला में बड़ी कार्रवाई, पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ दर्ज की FIR राघौगढ़ किले से नहीं भाजपा नेताओं से जुड़े है गुना हत्याकांड के तार, फोटो सहित प्रूफ दिए हैं- जयवर्धन सिंह दिल्ली में भीषण गर्मी और लू का कहर, कई इलाकों में पारा 49 डिग्री सेल्सियस के पार

वित्त वर्ष 2020-21 में (-) 9 फीसद पर रह सकती है भारत की विकास दर, रेटिंग एजेंसी क्रिसिल का अनुमान

Crisil का कहना है कि अगर कोरोना महामारी सितंबर-अक्टूबर में अपने पीक पर पहुंचती है तो इस वित्त वर्ष के आखिर तक जीडीपी वृद्धि दर सकारात्मक अंकों में प्रवेश कर सकती है।

मुंबई। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने गुरुवार को कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 में भारत की इकोनॉमी में नौ फीसद तक का संकुचन देखने को मिल सकता है। एजेंसी ने कहा कि इसके पीछे की वजह यह है कि देश में कोरोनावायरस संक्रमण अब तक अपने चरम पर नहीं पहुंचा है और सरकार सीधे तौर पर पर पर्याप्त राजकोषीय समर्थन नहीं उपलब्ध करा रही है। क्रिसिल ने मई में अर्थव्यवस्था में पांच फीसद के संकुचन का अनुमान जाहिर किया था। क्रिसिल ने कहा है कि अगर GDP में नौ फीसद का संकुचन दर्ज किया जाता है तो यह इकोनॉमी में 1950 से लेकर अब तक का सबसे बड़ा सिकुड़न होगा।

सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपये से अधिक के राहत पैकेज की घोषणा की थी लेकिन वास्तव में नया खर्च जीडीपी के दो फीसद से भी कम रहा था।

एजेंसी ने कहा, ”अब तक महामारी का चरम स्तर देखने को नहीं मिला है और सरकार सीधे तौर पर पर्याप्त राजकोषीय समर्थन नहीं दे रही है। इससे हमारे पूर्व के अनुमान की तुलना में और गिरावट का जोखिम और मजबूत हो गया है।”

क्रिसिल ने कहा है कि अपनी राजकोषीय स्थिति की वजह से सरकार इकोनॉमी को समर्थन देने के लिए अधिक खर्च नहीं कर पा रही है। अब तक आर्थिक वृद्धि को लेकर उठाए गए नीतिगत उपायों का असर कुछ सेक्टर्स को छोड़कर बहुत अधिक देखने को नहीं मिला है। मई में हमने जीडीपी के एक फीसद के बराबर की अतिरिक्त सीधी मदद का अनुमान लगाया था, जो अब तक देखने को नहीं मिला है।

एजेंसी का कहना है कि अगर कोरोना महामारी सितंबर-अक्टूबर में अपने पीक पर पहुंचता है तो इस वित्त वर्ष के आखिर तक जीडीपी वृद्धि दर सकारात्मक अंकों में प्रवेश कर सकती है।

J&K: सामने आया कुलगाम में बैंक कर्मचारी की हत्या का CCTV, नकाबपोश ने बेखौफ चलाई गोली     |     सोनिया गांधी कोरोना पॉजिटिव, कई कांग्रेस नेता भी संक्रमित…पिछले दिनों बैठकों में हुईं थीं शामिल     |     बीजेपी में शामिल हुए हार्दिक पटेल, भगवा टोपी पहने आए नजर     |     गैरी कर्स्टन ने की ऋद्धिमान साहा की तारीफ, कहा- वह हमारे लिए अहम खिलाड़ी     |     Cryptocurrency से अर्थव्यवस्था के एक हिस्से के ‘डॉलरीकरण’ का खतरा: आरबीआई अधिकारी     |     पाकिस्तान में आसमान बरसा रहा आग‍ ! पारा 51 डिग्री के पार, लोगों को बेवजह बाहर न निकलने की सलाह     |     पाकिस्तान के वजीरिस्तान में आत्मघाती हमले में तीन बच्चों समेत 6 लोगों की मौत     |     पत्रकार गणेश तिवारी आत्महत्या मामला में बड़ी कार्रवाई, पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ दर्ज की FIR     |     राघौगढ़ किले से नहीं भाजपा नेताओं से जुड़े है गुना हत्याकांड के तार, फोटो सहित प्रूफ दिए हैं- जयवर्धन सिंह     |     दिल्ली में भीषण गर्मी और लू का कहर, कई इलाकों में पारा 49 डिग्री सेल्सियस के पार     |    

SMTV India
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9907788088