हेडलाइंस
इंदौर अपार्टमेंट में चल रहे ‘सेक्स रैकेट’ का पर्दाफाश Thursday Ka Rashifal: आज मनोरंजन का मिलेगा मौका, वाणी पर रखें संयम, पढ़ें अपना राशिफल योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय, इतिहास | Yogi Adityanath Biography in Hindi कपिल शर्मा का जीवन परिचय एवं शो की जानकारी | Kapil Sharma Biography in hindi जेलों में अब नवविवाहिता संग समय बिता सकेंगे कैदी, रखना होगा इन बातों का ध्यान दरिंदगी की हद! मेले से लौट रही किशोरी को अगवा कर किया गैंगरेप, फिर निर्वस्त्र दौड़ाया हंसते-हंसाते सबको रुला गए गजोधर भइया: नहीं रहे काॅमेडियन राजू श्रीवास्तव 41 दिन की लंबी लड़ाई हार गए एक्टर अंकिता लोखंडे (बायोग्राफी) जीवन परिचय |Ankita Lokhande Biography In Hindi Indira Ekadashi Vrat 2022: आज है इंदिरा एकादशी व्रत, जानें मुहूर्त, व्रत और पूजा की सही विधि Wednesday Ka Rashifal: आज दांपत्य जीवन में मिलेगा सुख, आर्थिक लाभ का बन रहा योग, पढ़ें अपना राशिफल

ग्वालियर मेला हटाने के लिए हुए निर्देश, फैसला असंतोसजनक- मेला व्यापारी

ग्वालियर। कोरोना संक्रमण के लगातार विस्तार को देखते हुए ग्वालियर व्यापारा मेला पूर्व निर्धारित अवधि (15 अप्रैल) से पहले ही समाप्त करने के आदेश जारी हो चुके हैं। 23 मार्च, सोaमवार को कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने यह आदेश जारी किया है कि मेले के सभी दुकानदार 28 मार्च तक अपना सामान समेट लें व दुकानों को खाली करें। कलेक्टर ने कोरोना संक्रमितों के बढ़ने के कारण मध्यप्रदेश लाेक स्वास्थ्य अधिनियम 1949 की धारा-60 के तहत सार्वजनिक स्थलों पर भीड़ नियंत्रण रखने की दृष्टि से मेला पूर्णत: बंद करने के लिए आदेशित किया है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर मेला समाप्त करने संबंधी आदेश हुए हैं। प्रतिवेदन में तर्क है कि बीते एक सप्ताह में औसतन 30 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। आगामी दिनों में यह संख्या बढ़ने की आशंका है। ऐसे में कलेक्टर ने आदेश का कड़ाई से पालन करने को कहा है।
वहीं जिला प्रशासन के इस आदेश को श्रीमंत माधवराव सिंधिया ग्वालियर व्यापार मेला व्यापारी संघ के पदाधिकारी अव्यवहारिक करार दे रहे हैं। संघ का कहना है कि कलेक्टर का यह फैसला विवेकपूर्ण नहीं है। क्योंकि यह संभव ही नहीं कि दुकानदार रातों-रात अपनी दुकान का सामना बेचकर व समेटकर चले जाएं। लाखों रुपये पुंजी व्यापारियों की लगी है। ऐसे में उस नुकसान की भरपाई कौन करेगा। हालांकि संघ ने कोरोना को लेकर भी चिंता जताई है। मगर व्यापारियों का कहना है कि मेला समाप्त करने में भी 10-15 दिन लग जाते हैं। गौरतलब है कि 28 मार्च को होलिका दहन होगा, जबकि 29 को होली खेली जाएगी। उम्मीद की जा रही थी कि इस साल 115 साल के इतिहास में पहली बार मेले में होली खेली जाएगी।
कलेक्टर द्वारा जारी किए गया आदेश बिल्कुल भी विवेकपूर्ण नहीं है। ऐसा कैसे संभव है कि 28 तक व्यापारी मेला खाली करके चले जाएं। व्यापारियों के नुकसान की भरपाई क्या प्राधिकरण कर सकता है? लाखों की लागत व्यापारियों ने लगाई है, वह राशि क्या प्राधिकरण या जिला प्रशासन देगा। व्यापारी संघ इस आदेश का विरोध करता है, कोरोना की चिंता हमें भी है। मगर शहर में जितने भी लोग कोरोना संक्रमित निकल रहे हैं, उनकी कांटेक्ट हिस्ट्री आन्यों राज्यों की है। कोई ऐसा नहीं है जो कह दे कि मैं मेले में गया था इसलिए संक्रमित हो गया।

इंदौर अपार्टमेंट में चल रहे ‘सेक्स रैकेट’ का पर्दाफाश     |     Thursday Ka Rashifal: आज मनोरंजन का मिलेगा मौका, वाणी पर रखें संयम, पढ़ें अपना राशिफल     |     योगी आदित्यनाथ का जीवन परिचय, इतिहास | Yogi Adityanath Biography in Hindi     |     कपिल शर्मा का जीवन परिचय एवं शो की जानकारी | Kapil Sharma Biography in hindi     |     जेलों में अब नवविवाहिता संग समय बिता सकेंगे कैदी, रखना होगा इन बातों का ध्यान     |     दरिंदगी की हद! मेले से लौट रही किशोरी को अगवा कर किया गैंगरेप, फिर निर्वस्त्र दौड़ाया     |     हंसते-हंसाते सबको रुला गए गजोधर भइया: नहीं रहे काॅमेडियन राजू श्रीवास्तव 41 दिन की लंबी लड़ाई हार गए एक्टर     |     अंकिता लोखंडे (बायोग्राफी) जीवन परिचय |Ankita Lokhande Biography In Hindi     |     Indira Ekadashi Vrat 2022: आज है इंदिरा एकादशी व्रत, जानें मुहूर्त, व्रत और पूजा की सही विधि     |     Wednesday Ka Rashifal: आज दांपत्य जीवन में मिलेगा सुख, आर्थिक लाभ का बन रहा योग, पढ़ें अपना राशिफल     |    

SMTV India
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9907788088