हेडलाइंस
Assembly Elections: उत्तर प्रदेश में अकेल चुनाव लड़ेगी जद(यू), गठबंधन पर भाजपा से नहीं मिला कोई जवाब Assembly Elections: भारतीय किसान यूनियन ने SP-RLD गठबंधन को दिया समर्थन, जानें क्या बोले राकेश टिकैत? ग्रेजुएशन पास वालों के लिए यहां निकली हैं बंपर भर्तियां, अप्लाई करने से पहले पढ़ लें यह खबर 5.6 इंच की डिस्प्ले के साथ Apple ला सकती है iPhone SE 3, लीक हुई तस्वीर Gold के प्रति भारतीयों का बढ़ा आकर्षण, 9 महीने में सोने का आयात हुआ दोगुना भ्रष्टाचार मामले को लेकर समझौता याचिका पर बातचीत कर रहे नेतन्याहू विराट कोहली के टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ने पर पूर्व बल्लेबाज कैफ ने कही ये बड़ी बात पिंक और ब्लू शरारा सूट में सपना चौधरी ने बिखेरा खूबसूरती का जलवा, कैमरे के सामने झूमकर यूं दिए पोज दूर होगा होंठों के आसपास का कालापन, घर पर यूं बनाएं Beetroot Serum ग्वालियर में जीनोम सीक्वेंसिंग सैंपल की जांच की सुविधा नहीं

बाजार में तेजी लौटी, सेंसेक्स 143 अंक चढ़ा, साप्ताहिक आधार पर बढ़त में

ओमीक्रोन के बढ़ते मामलों और अमेरिकी फेडरल रिजर्व के आक्रामक रुख से बाजार में उतार-चढ़ाव बना हुआ है

नई दिल्लीः वैश्विक बाजारों में मिलेजुले रुख के बीच रिलायंस इंडस्ट्रीज, टीसीएस और आईसीआईसीआई बैंक जैसे बड़े शेयरों में तेजी के चलते प्रमुख शेयर सूचकांक-बीएसई सेंसेक्स शुक्रवार को 143 अंक चढ़कर बंद हुआ। इस दौरान 30 शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 142.81 अंक यानी 0.24 प्रतिशत बढ़कर 59,744.65 पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 66.80 अंक यानी 0.38 फीसदी बढ़कर 17,812.70 पर बंद हुआ। निवेशकों ने ऊर्जा, बुनियादी ढांचा और आईटी शेयरों में निवेश किया।

सेंसेक्स में सबसे अधिक 1.79 प्रतिशत की बढ़त एशियन पेंट्स में हुई। इसके अलावा टीसीएस, नेस्ले इंडिया, अल्ट्राटेक सीमेंट, आईसीआईसीआई बैंक और रिलायंस इंडस्ट्रीज बढ़त दर्ज करने वाले प्रमुख शेयरों में शामिल थे। दूसरी ओर गिरावट वाले शेयरों में बजाज फिनसर्व, महिंद्रा एंड महिंद्रा, बजाज फाइनेंस, एचडीएफसी, टाइटन और भारती एयरटेल शामिल हैं। इनमें 1.39 प्रतिशत तक की गिरावट आई।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘घरेलू सूचकांकों ने कमजोर वैश्विक संकेतों के कारण शुरुआती बढ़त को कुछ हद तक खो दिया, क्योंकि दुनिया भर में बाजारों को अमेरिकी रोजगार के आंकड़ों और यूरो क्षेत्र के महंगाई के आंकड़ों का इंतजार था। हालांकि, स्वास्थ्य देखभाल और उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुओं से संबंधित शेयरों की मजबूत मांग ने गिरावट की भरपाई की।’’

उन्होंने आगे कहा कि ओमीक्रोन के बढ़ते मामलों और अमेरिकी फेडरल रिजर्व के आक्रामक रुख से बाजार में उतार-चढ़ाव बना हुआ है लेकिन कंपनियों की आय बेहतर होने की उम्मीद तथा एफआईआई द्वारा शुद्ध खरीदारी के रुख से बाजार में उम्मीद बनी हुई है। साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स ने 1,490.83 अंक या 2.55 फीसदी की बढ़त दर्ज की, जबकि निफ्टी 458.65 अंक या 2.64 फीसदी चढ़ा। रेलिगेयर ब्रोकिंग के शोध उपाध्यक्ष अजीत मिश्रा ने कहा कि हालिया उछाल के बाद बाजार के मजबूत होने की उम्मीद है।

उन्होंने कहा, ‘‘मिलेजुले वैश्विक संकेतों और कोविड से संबंधित घटनाक्रम के चलते अस्थिरता बने रहने की आशंका अधिक है। इसके अलावा आगामी वृहत आर्थिक आंकड़ें (आईआईपी, सीपीआई और डब्ल्यूपीआई) और कंपनियों के तिमाही नतीजे भी बाजार को प्रभावित करेंगे। हम एक सकारात्मक लेकिन सतर्क दृष्टिकोण की सिफारिश करते हैं।’’

Assembly Elections: उत्तर प्रदेश में अकेल चुनाव लड़ेगी जद(यू), गठबंधन पर भाजपा से नहीं मिला कोई जवाब     |     Assembly Elections: भारतीय किसान यूनियन ने SP-RLD गठबंधन को दिया समर्थन, जानें क्या बोले राकेश टिकैत?     |     ग्रेजुएशन पास वालों के लिए यहां निकली हैं बंपर भर्तियां, अप्लाई करने से पहले पढ़ लें यह खबर     |     5.6 इंच की डिस्प्ले के साथ Apple ला सकती है iPhone SE 3, लीक हुई तस्वीर     |     Gold के प्रति भारतीयों का बढ़ा आकर्षण, 9 महीने में सोने का आयात हुआ दोगुना     |     भ्रष्टाचार मामले को लेकर समझौता याचिका पर बातचीत कर रहे नेतन्याहू     |     विराट कोहली के टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ने पर पूर्व बल्लेबाज कैफ ने कही ये बड़ी बात     |     पिंक और ब्लू शरारा सूट में सपना चौधरी ने बिखेरा खूबसूरती का जलवा, कैमरे के सामने झूमकर यूं दिए पोज     |     दूर होगा होंठों के आसपास का कालापन, घर पर यूं बनाएं Beetroot Serum     |     ग्वालियर में जीनोम सीक्वेंसिंग सैंपल की जांच की सुविधा नहीं     |    

SMTV
पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 9907788088